Latest news

नितिन गडकरी की गाड़ी के नंबर पर जारी किया फर्जी पलूशन सर्टिफिकेट,दर्ज हुआ मुकदमा

Pollution Certificate of Nitin Gadkari Car

  • केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के वाहन के नाम पर जारी हुए फर्जी पलूशन सर्टिफिकेट
  • पुणे के डेक्कन थाने में जारी करने वाली एजेंसी के नाम पर दर्ज हुआ मुकदमा
  • एजेंसी पर आरोप, बिना वाहन की जांच के जारी कर दिए था प्रदूषण प्रमाण पत्र
  • नितिन गडकरी के वाहन के नंबर पर कई स्थानों पर बनवाए गई थी पीयूसी

पुणे

देश में नए मोटर वीइकल ऐक्ट के लागू होने के बाद महाराष्ट्र में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के वाहन नंबर पर फर्जी प्रदूषण प्रमाण पत्र जारी करने के मामले में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। पुणे में पलूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट जारी करने वाली एक एजेंसी के खिलाफ डेक्कन पुलिस थाने में केस दर्ज किया गया है। एफआईआर की यह कार्रवाई उन खबरों के बाद की गई है, जिनमें दावा किया गया था कि देश में कई सर्टिफिकेशन एजेंसियां बिना वाहन को देखे या इसकी जांच किए प्रदूषण प्रमाण पत्र जारी कर रही हैं।

पुलिस के अनुसार, पलूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट देने वाली इस एजेंसी पर आरोप है कि उसने केंद्रीय मंत्री के वाहन के नंबर पर फर्जी प्रदूषण प्रमाण पत्र जारी कर दिया। आरोप के अनुसार, जिस वाहन का पलूशन सर्टिफिकेट जारी किया गया, वह दिल्ली में प्रयोग किया जाता है।

बिना जांच जारी कर दिया सर्टिफिकेट

आरोप है कि एजेंसी ने इस वाहन की जांच किए बिना ही बस नंबर के आधार पर पलूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट जारी कर दिया। इसके अलावा सर्टिफिकेट के लिए जिस गैस चेकिंग मशीन का प्रयोग किया जाता है, प्रमाण पत्र जारी होने के वक्त उसका भी इस्तेमाल नहीं किया गया।

नया ट्रैफिक रूल: गडकरी ने कहा- कमाने के लिए नहीं बढ़ाया जुर्माना

सामने आई थी एजेंसियों की गड़बड़ी

बता दें कि बीते दिनों महाराष्ट्र के कई हिस्सों में पीयूसी जारी करने वाली एजेंसियों की गड़बड़ी की खबरें सामने आई थीं। आरोप था कि यह एजेंसियां वाहन की जांच किए बिना ही पलूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट इश्यू कर रही हैं। इसके अलावा नितिन गडकरी द्वारा इस्तेमाल होने वाले वाहन के नाम पर भी कई पीयूसी बनवाने का मामला सामने आया था। इसकी जानकारी के बाद महाराष्ट्र सरकार ने इस केस की जांच के आदेश दिए थे।

नितिन गडकरी (फाइल फोटो)

 

 

Source link

Subscribe us on Youtube


Leave a Reply