पंजाब में आम जनता को इंसाफ़ पाने के लिए किस क़दर ठोकरे खानी पड़ रही है मामला तब और भी घम्भीर हो जाता हे जब इंसाफ़ मांगने वाला सत्ताधारी पार्टी का ही नुमाइन्दा ka एक ऐसा ही मामला देखने को मिला पुलिस जिला खन्ना में जहां लोकसभा हल्का फतेहगढ साहिब से यूथ कोंग्रस के अध्यक्ष अजविंदर सिंह (काला ) को इंसाफ़ पाने के लिए अपने साथियों सहित एक प्रैस कांफ्रेंस कर मीडिया का सहारा लेना पड़ा, मामला 28 जून को पायल के एक निजी हॉस्पिटल में इलाज़ के लिए गए नौजवान की मौत का है, अजविंदर और मृतक नौजवान के पिता ने पुलिस पर राजनैतिक दबाब में काम करने और हॉस्पिटल का मालिक कांग्रसी होने के चलते उस को बचाने का आरोप भी लगाया,लोकसभा हल्का फतेहगढ़ साहिब से यूथ कोंग्रस के अध्यक्ष अजविंदर सिंह काला और पायल से कांग्रसी पार्षद रमन चांदी ने इस मामले में राजनितिक दबाब के कारण इंसाफ़ मिलने में देरी बताया और अपनी ही पार्टी पर एक सवालिया निशान खड़ा किया, और आरोप लगाया कि युवराज की मौत का सबसे बड़ा कारण जिस हॉस्पिटल में युवराज इलाज के लिए गया था उसको चलने वाला एमबीबीएस डॉक्टर नहीं बल्कि रिटायर्ड फार्मासिस्ट है जिस ने युवराज का ईलाज किया था, और हॉस्पिटल की तरफ़ से जिस डॉक्टर से युवराज का ईलाज हो रहा था बताया गया है वह उस दिन हॉस्पिटल में नहीं बल्कि लुधियाना में था और उस पर पहले ही कई आपराधिक मामले दर्ज है, अगर उन्हें जल्द इंसाफ न मिला तो वह हाईकोर्ट तक का दरवाजा खटखटाए गे।

ਕਾਂਗਰਸ ਸਰਕਾਰ ਚ ਹੀ ਪੀੜ੍ਹਤ ਕਾਂਗਰਸੀ ਨੇਤਾ ਦੀ ਸੁਣੋ ਦਰਦ ਭਰੀ ਕਹਾਣੀ
Sad story of a Congress leader in the Congress government

Post Views: 54