Latest news

Glime India News

UN ह्यूमन राइट्स ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन पर की बड़ी टिप्पणी

संयुक्त राष्ट्रसंघ मानवाधिकार (UN ह्यूमन राइट्स) कार्यालय ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन पर बड़ी टिप्पणी की है. कार्यालय ने प्रशासन और प्रदर्शनकारियों से अधिकतम संयम बरतने की अपील की है.

शुक्रवार शाम को जारी किए गए संदेश में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय ने स्पष्ट कहा कि शांतिपूर्ण सभा और अभिव्यक्ति के अधिकार की ऑनलाइन और ऑफलाइन सुरक्षा करना जरूरी है.

संयुक्त राष्ट्रसंघ मानवाधिकार कार्यालयहम भारत के प्रशासन और प्रदर्शनकारियों से मौजूदा किसान आंदोलन में अधिकतम संयम बरतने की अपील करते हैं. शांतिपूर्ण सभा और अभिव्यक्ति के अधिकार की ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों से तरह से सुरक्षा की जानी जरूरी है. यह अहम है कि सभी के लिए मानवाधिकारों का सम्मान करते हुए समतावादी समाधान निकाला जाए.

बता दें दिल्ली के आसपास की सीमाओं पर बड़ी संख्या में किसान पिछले 2 महीनों से ज्यादा वक्त से प्रदर्शन कर रहे हैं. यह प्रदर्शन 3 विवादित कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहा है, जिन्हें हाल ही में सरकार ने पारित करवाया था. किसानों का कहना है कि नए कानूनों से मंडी व्यवस्था कमजोर होगी और किसानों के बजाए कॉरपोरेट के बड़े खिलाड़ियों को फायदा मिलेगा. इसलिए इन कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए. किसान MSP के लिए कानूनी गारंटी दिए जाने की भी मांग कर रहे हैं.

पुलिस की कसते शिकंजे के बीच किसानों के लिए समर्थन लगातार बढ़ता जा रहा है. हाल में अंतरराष्ट्रीय स्तर के ख्यात लोगों, जिनमें मशहूर पॉप गायिका रेहाना, एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग जैसे लोगों ने भी किसान आंदोलन की तरफ ध्यान केंद्रित करवाया था.

अब तक सरकार और प्रदर्शनकारियों के बीच 11 दौर की वार्ता हो चुकी है. लेकिन अब तक कोई नतीजा नहीं निकल पाया है. इस बीच किसानों ने 6 जनवरी, शनिवार को पूरे देश में तीन घंटे के चक्केजाम का ऐलान किया है.